Thursday, February 16, 2017

श्रृंगार ख़्वाबों का

●●■◆■◆■●●
 रंग भरूँ शोख़ी में आज शबाबों का
रुख़ पे तेरे मल दूँ अर्क गुलाबों का
होंठो का आलिंगन कर यूँ होंठो से,
हो जाए श्रृंगार हमारे ख़्वाबों का
●●■◆■◆■●●