Posts

Showing posts from 2012

सैकड़ों खानों में

मिरे वज़ूद को दिल का जो घर दिया तूने

ख़्वाब भी होने लगे हैं नम

दिल की हर बात