Posts

Showing posts from 2013

ग़र मेरे एहसास कुछ नहीं

आँख को रोते देखा

मुझको मिले हैं ज़ख्म जो बेहिस जहान से

दिल मेरा जब लेकर तेरा नाम

प्यार करें