बेकल बेबस तन्हा मौसम



बिखरी शाम सिसकता मौसम
बेकल बेबस तन्हा मौसम

तन्हाई को समझ रहा है
लेकर चाँद खिसकता मौसम

शब के आंसू चुनने आया
लेकर धूप सुनहरा मौसम

चाँद चौदहवीं का हो छत पर
फिर देखो मचलता मौसम

जुल्फ चांदनी की बिखराकर
बनकर रात महकता मौसम

खिलती कलियों की संगत में
फूलों सा ये खिलता मौसम

तेरी यादों की बूंदों से
ठंडा हुआ दहकता मौसम

धूप-छांव बनकर नदीश की
ग़ज़लों में है ढलता मौसम

Popular posts from this blog

नींद का बिस्तर नहीं मिला

देखते देखते

प्यार करें

महके है तेरी याद से

ठंडी हवा की आँच

कितना मुश्किल रहा है वो

सैकड़ों खानों में

घटा से धूप से और चांदनी से चाहते क्या हो?

प्यार आपका मिले

दिल की हर बात