आँख में आंसू आये हैं

बनकर तेरी याद की ख़ुश्बू आये हैं
दर्द के कुछ कस्तूरी आहू आये हैं

रात अमावस की औ" यादों की टिमटिम
ज्यों राहत के चंचल जुग्नू आये हैं

भेजा है पैगाम तुम्हारे ख़्वाबों ने
बनकर कासिद आँख में आंसू आये हैं

महका-महका हर क़तरा मेरे तन का
हम जबसे तेरा दामन छू आये हैं

जब भी बादल काले-काले दिखे नदीश
ज़हन में बस तेरे ही गेसू आये हैं
रेखाचित्र-अनुप्रिया

Popular posts from this blog

नींद का बिस्तर नहीं मिला

देखते देखते

प्यार करें

महके है तेरी याद से

ठंडी हवा की आँच

कितना मुश्किल रहा है वो

सैकड़ों खानों में

घटा से धूप से और चांदनी से चाहते क्या हो?

प्यार आपका मिले

दिल की हर बात