तेरे बगैर रहा है


किस्मत को तो मुझसे पुराना बैर रहा है
हर वक़्त तू भी तो खफा सा खैर रहा है

हासिल यही है तज़र्बा-ए-ज़िन्दगी मुझे
 किरदार तो अपनों में मेरा गैर रहा है

फिरता रहा बारे-अना लिए तमाम उम्र
बनकर के लाश जो पानी में तैर रहा है

पल भर की जुदाई में दिए हैं हज़ार तंज़
कैसे  नदीश  ये  तेरे  बगैर  रहा  है

चित्र साभार-गूगल

Popular posts from this blog

नींद का बिस्तर नहीं मिला

देखते देखते

प्यार करें

महके है तेरी याद से

ठंडी हवा की आँच

कितना मुश्किल रहा है वो

सैकड़ों खानों में

घटा से धूप से और चांदनी से चाहते क्या हो?

प्यार आपका मिले

दिल की हर बात